ब्रिटेन का संविधान | ब्रिटेन की शासन व्यवस्था | ब्रिटिश संविधान का विकास, BA 2ND Year Question With Image

 
 ब्रिटेन की शासन व्यवस्था
 ब्रिटेन की शासन व्यवस्था

ब्रिटेन संविधान विकास महत्व और उसकी विशेषताएं
, ब्रिटेन संविधान का विकास

 हम लोग जानते हैं कि  ब्रिटेन संविधान विकास के बारे में कैसे हुआ इसका विकास

 ब्रिटेन संविधान एक विकसित संविधान है इसमें  और 200 वर्ष के आधार पर अपने वर्तमान स्वरूप को प्राप्त किया है और आप भी यह विकास का समय है संवैधानिक विकास की दृष्टि से ब्रिटिश संविधान के इतिहास को अग्रलिखित को 6 युगों में विभाजित किया जाता है |

 संविधान की प्रमुख विशेषताएं या प्रमुख लक्षण

 ब्रिटेन संविधान की प्रमुख विशेषताएं निम्नलिखित है

 विकसित संविधान :-  भारत, अमेरिका,  फ्रांस और अन्य देशों के संविधान ऐसे हैं जिनका निर्माण किसी एक विषय संविधान सभा के द्वारा किया गया है किंतु ब्रिटिश संविधान का निर्माण नहीं हुआ  और उसका विकास हुआ उसका विकास धीरे-धीरे हुआ |

अलिखित संविधान :-  वर्तमान समय में जबकि सामान्य तो ऐसा समझा जाता है संविधान आवश्यक रूप से अलिखित संविधान है ब्रिटेन संविधान अलिखित संविधान का एकमात्र उदाहरण है ब्रिटेन संविधान एक  साथ नहीं लिया गया और इसको कभी भी थोड़ा या बनाया नहीं जा सकता है|

 लचीला सूपरिवर्तन संविधान :-  इसमें दो प्रकार के संविधान होते हैं लचीला संविधान और कठोर संविधान लचीला संविधान कानून के निर्माण की प्रक्रिया से ही परिवर्तन किया जा सकता है किंतु कठोर संविधान में परिवर्तन करने के लिए साधारण कानून के रूप भिन्न-भिन्न संविधान में निश्चित विशेष प्रक्रिया अपनाना आवश्यक होता है |

सिद्धांत और व्यवहार में अंतर :- ब्रिटेन संविधान का एक महत्वपूर्ण लक्षण सिद्धांत और व्यवहार में अंतर होता है ब्रिटेन शासन के जो कुछ दिखाई देते हैं वह वास्तव में नहीं जो है वह दिखाई नहीं देते |
ब्रिटेन का संविधान
ब्रिटेन का संविधान

ब्रिटेन की शासन व्यवस्था
  •  व्यवस्थापिका - संसद
  •  कार्यपालिका -  राष्ट्रपति सम्राट  (नाम मात्र का)  वंशानुगत
  •  न्यायपालिका -  सर्वोच्च न्यायालय

संसद की सर्वोच्चता या प्रभुसत्ता :-  ब्रिटिश संविधान एक अन्य विशेषता संसद की सर्वोच्चता का सिद्धांत है ब्रिटेन में एकात्मक शासन होने के कारण संसद एकात्मक कानून निर्माता सत्ता है पीला होने के कारण साधारण बहुमत से ही किसी भी कानून निर्माण की स्थिति की कोई सीमा नहीं है |

डी लॉम्ब ने :- "संसद स्त्री को पुरुष और पुरुष को स्त्री बनाने कोअतिरिक्त अन्य सब कुछ कर सकती है "
एकात्मक शासक :-  क्षेत्र की दृष्टि से ब्रिटेन एक  उदित इकाई है |  इसी कारण ब्रिटेन में एकात्मक शासन की समस्त शक्तियां केंद्रीय सरकार पर निर्धारित कर दी गई केंद्रीय सरकार से तात्पर्य और स्वाभाविक रूप से इनका यथाशक्ति केंद्रीय सरकार की इच्छा पर निर्भर करता है

Life Shyari - Click Here
 
विधि का शासन :-  ब्रिटिश संविधान एक विशेषता जिस पर अंग्रेज बहुत अधिक गर्व करते हैं विधि का शासन है कानून का शासन सबके लिए समान है विधि का शासन का आशय यह है कि इंग्लैंड के साथ उनका संचालन इन्हीं  विशेष व्यक्तियों की इच्छा द्वारा नहीं कानून के द्वारा किया जाता है |

 धर्म निरपेक्ष राज्य :-  ब्रिटेन संविधान एक धर्मनिरपेक्ष राज्य की स्थापना करता है ब्रिटेन में कानूनी तौर पर यह व्यवस्था है कि ब्रिटेन की राजा अथवा रानी तिवारी रूप से और टेस्ट इसी आधार पर अधिक व्यक्ति विचित ब्रिटेन को धर्मनिरपेक्ष राज्य बनाने से इनकार करते हैं लेकिन व्यवहारिक अध्ययन की दृष्टि से यह बात महत्व नहीं रखती राजा तथा ब्रिटेन राज्य व्यवस्था का अति एकात्मक पद है | 

परी और एक बच्चे की कहानी - Click Here
 
मिश्रित शासन प्रणाली :-  ब्रिटिश संविधान एक निर्मित नहीं किंतु विकसित संविधान है इसमें तीन तरह का शासन होता है राजतंत्र कुलीन तंत्र और प्रजातंत्र इन तीन शासन प्रणाली की विशेषता ब्रिटेन की शासन विशेषता में है इसीलिए इसे शासन प्रणाली कहा जाता है |

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां